Wednesday, March 9, 2011

मोबाइल से कुछ सीखें

                   मोबाइल के घर
                                      जब भूल  से  भी आता है कोई 
                             प्रसन्नता से जग -- मग
                                हो उठती  है उसकी काया
                                   मेहमान के आने की खुशी
                              गा गा कर  सुनाता वह
                           महानगर के निवासी
                                    संभ्रांत कहे जाने वाले हम
                                                बुझे चहरे और सरगम हीन भाषा में
                                      अतिथि का करते हैं स्वागत 
                            क्या मोबाइल  से हम
                                          स्वागत संस्कार सीख सकते हैं

2 comments:

जवाहर चौधरी said...

मानव का बनाया यन्त्र है . जिस दिन ईश्वर की रचना यानी आदमी की तरह हो जायेगा सारे अनचाहे आचरण ये भी करने लगेगा .
बहरहाल , कविता अच्छी है .
और लिखिए .

BrijmohanShrivastava said...

होली का त्यौहार आपके सुखद जीवन और सुखी परिवार में और भी रंग विरंगी खुशयां बिखेरे यही कामना